मिला वो भी नही करते मिला हम भी नही करते

मिला वो भी नही करते
मिला हम भी नही करते

दगा वो भी नही करते
दगा हम भी नही करते

उन्हे रुसवाई का दुख
हमे तन्हाई का डर

गिला वो भी नही करते
शिकवा हम भी नही करते

किसी मोड़ पर
मुलाकात हो जाती है अक्सर

रुका वो भी नही करते
ठहरा हम भी नही करते

– नामालूम

Leave a Reply