मुट्ठी में, एक सुबह भी है

रात की मुट्ठी में, एक सुबह भी है…!
शर्त है कि पहले, जी भर के अँधेरा तो देखें..!!

Leave a Reply